सॉफ्टवेयर क्या है ? इसके प्रकार । What is software in hindi

यहाँ सॉफ्टवेयर क्या है, सॉफ्टवेयर कितने प्रकार का होता है, कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर के क्या कार्य एवं उपयोग हैं, सॉफ्टवेयर के उदाहरण आदि सभी चीज़ों के विषय में हम जानकारी प्राप्त करेंगे। इसके साथ ही हम यह भी जानेंगे कि सिस्टम सॉफ्टवेयर, एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एवं यूटिलिटी सॉफ्टवेयर क्या होते हैं और इनके कंप्यूटर में क्या कार्य होते हैं। 

सॉफ्टवेयर क्या है ? सॉफ्टवेयर कितने प्रकार का होता है ? Software and Its Types in Hindi  

 Software ( सॉफ़्टवेयर  ) :- साॅफ्टवेयर प्रोग्रामों, नियम एवं क्रियाओं का एक ऐसा समूह है जो किसी विशेष कार्य को पूरा करने के उद्देश्य से Computer System के कार्यों को नियंत्रित करता है व Computer के विभिन Hardware के बीच समन्वय स्थापित करता है । इस प्रकार Software एक निर्देश है जो Hardware से वांछित कार्य कराने हेतु उसे दिए जाते हैं । Software Hardware को यह बताता है कि उसे कौन से कार्य करने हैं , कब करने हैं एवं कैसे करने हैं ।


Software Computer का एक ऐसा भाग है जिसे छूआ नहीं जा सकता । इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है । यह हवा यानि वायु की तरह ही एक आभासी चीज़ है । जिस प्रकार हम वायु को देख नहीं सकते, छू नहीं सकते; उसी प्रकार हम इस सॉफ्टवेयर नाम की चीज़ को भी छू नही सकते । लेकिन जिस प्रकार हम वायु के बिना साँस नहीं ले सकते, उसी प्रकार Software के बिना हम अपना कोई भी मनपसंद कार्य Computer से नहीं करवा सकते । यदि Hardware इंजन है तो Software इंधन । बगैर इंधन के इंजन start नही हो सकता । इसका अभिप्राय ये है कि यदि हमारे Computer में Software ना हो तो हमारा Computer एक useless box मात्र होगा । यदि हम अपने कंप्यूटर से अपना मनपसंद कोई काम करवाते हैं तो यह Software की वजह से ही सम्भव हो पाता है । Windos, Unix, Linux, Database, Macintosh आदि Software  के कुछ उदाहरण हैं ।

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं -Types of Software in Hindi 


software के प्रकार



Software को मुख्यतः तीन भागों अथवा प्रकारों में बांटा गया है :-

1• सिस्टम सॉफ़्टवेयर ( System Software)
2• ऐप्लिकेशन सोफ्ट्वेयर ( Application Software )
3• यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर ( Utility Software )

सिस्टम सॉफ़्टवेयर क्या है ? व्हाट इस सिस्टम सॉफ्टवेयर ?

System Software - यह भी प्रोग्रामों का एक समूह है जो Computer System के आधारभूत कार्यों को सम्पन्न करने के लिए बनाये जाते हैं । सिस्टम सॉफ़्टवेयर कंप्यूटर और इसके उपयोगकर्ता के बीच मध्यस्थ का कार्य करता है । सिस्टम सॉफ़्टवेयर ( System Software ) जहां एक ओर कंप्यूटर Hardware से जुड़ा होता है वहीं दूसरी तरफ इसका जुड़ाव ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर ( Application Software ) से भी होता है । कोई भी Application Software सिस्टम सॉफ्टवेर को ध्यान मे रखकर ही बनाया जाता है । सिस्टम सॉफ़्टवेयर हमारे computer के hardware को manage व control करते हैं और इनकी वजह से ही ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर हमारे कंप्यूटर में चल पाते हैं ।

सिस्टम सॉफ्टवेयर के प्रकार - टाइप्स ऑफ़ सिस्टम सॉफ्टवेयर 

सिस्टम सॉफ़्टवेयर को मुख्यतः दो भागों में बांटा जा सकता है :-



सिस्टम सॉफ़्टवेयर के उदाहरण :-

Windows (विंडोज़), Unix (यूनिक्स), Linux (लिनक्स), मैक ओएएस आदि - ये Operating System Software के उदाहरण हैं ।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर क्या है ? व्हाट इस एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ?


ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर प्रोग्रामों का एक समूह है जिसे किसी विशेष कार्य हेतु तैयार किया जाता है । इसका अर्थ ये है कि हमें जिस प्रकार के कार्य करने हैं, उसी के अनुरुप इसे बनाया जाता है । इस प्रकार, हम कह सकते हैं कि इसका विकास व्यक्ति, संस्था आदि के आवश्यकतनुसार किया जाता है । ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर विशेष Operating System को ध्यान में रखते हुए विकसित किये जाते हैं एवं ओपेरतिन्ग सिस्टम द्वारा तैयार पृष्ठभूमि पर ही कार्य कर सकते हैं ।


इसके प्रयोग के आधार पर इसे दो भागों में बांट सकते हैं । ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर उस टास्क के लिए विशिष्ट हैं जिसके लिए इसे तैयार किया जाता है । इस रूप में ये कभी सरल होते हैं तो कभी विशिष्ट ।


(क)- विशेषीकृत ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर - इसे उपयोग करने वालों की विशेष आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए तैयार करते हैं । इसलिए ऐसे Software दूसरों के लिए Useless होते हैं । उदाहरण के लिए, रेलवे reservation हेतु तैयार software ।


(ख)- सामान्य ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर - यद्यपि इसे भी विशेष कार्य हेतु हाय बनाया जाता है, तथापि इससे अन्य भी लाभान्वित हो सकते हैं । उदाहरण के लिए, एमएस ऑफ़िस, Web browser आदि ।


सामान्य ऐप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर यानि General Application Software के कुछ अन्य Examples हैं :-
Word Processing Software
Computer Aided Design Software
Accounting Package
Spreadsheet
Database
Presentation Software
Desktop Publishing

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर की विस्तृत जानकारी
कंप्यूटर ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन - कंप्यूटर सामान्य ज्ञान
मेनफ़्रेम कंप्यूटर क्या है ? यह किस कार्य के लिए प्रयोग किया जाता है ?
सर्च इंजन क्या होता है एवं यह कैसे कार्य करता है ?
वेब ब्राउज़र क्या है ? इसके कार्य एवं प्रकार की पूरी जानकारी।


यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर या उपयोगिता साफ्टवेयर क्या है ? व्हाट इस यूटिलिटी सॉफ्टवेयर ?

Utility Software (यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर)

इसे Generally 'Utilities' बोलते हैं । ये Software इस तरह प्रोग्राम किये जाते हैं जिससे Computer को और बेहतर तरीके से Perform करने में मदद मिलती है । यह Computer के कार्य को आसान व त्रुटिरहित बनाता है साथ ही System को विभिन तरह से सुरक्षित भी रखता है । इसका उपयोग अनेक Application Software में किया जा सकता है । Utility Software या 'यूटिलिटीज़' कंप्यूटर की कार्यक्षमता में वृध्दि करता है ।


Utility Software अर्थात्  उपयोगिता साफ्टवेयर  के उदाहरण :-
यहाँ हम Utility Software के मुख्य प्रकारों पर focus करेंगे ।

1• File Manager (फ़ाईल मैनेजर )
पहले हम यह जान लें कि File क्या है । कंप्यूटर सिस्टम में हम जो भी सूचना अथवा Data का संग्रह एक स्थान पर करते हैं, उसे File कहते हैं । जाहिर है कि हम किसी भी सूचना अथवा डाटा को कंप्यूटर की memory मे ही स्टोर करेंगे । इसके लिए हम एक या अधिक folder का प्रयोग करते हैं । आजकल Smart Phone चलाने वाले इसे बखूबी समझ सकते हैं । हम एक या एक से अधिक file को एक स्थान पर एक folder में रख सकते हैं । बस इसी File और Folder के प्रबन्ध हेतु जिस Software का निर्माण किया जाता है, उसे हम File Manager कहते हैं !

कंप्यूटर में प्रत्येक file का एक अलग नाम व location होती है । इसके साथ ही हर फ़ाईल के साथ उसकी Proparties, डेट, टाईम,आदि दर्शाया जाता है । हमने अन्तिम बार कब उसे देखा, अपडेट कब किया आदि की जानकारी भी रहती है । File Manager के द्वारा हम किसी file अथवा folder को जब चाहें देख सकते हैं, डिलीट, कॉपी, मूव, कॉपी, एडिट (Delete, Copy, Move, Edit) आदि कर सकते हैं । हम इसे Modify भी कर सकते हैं । जब हम किसी file को memory मे Save करते हैं तो यह File Manager उस file के name के साथ file extension जोड़ देता है । यह फ़ाईल के प्रकार पर निर्भर करता है । इसे ( डॉट ) के चिह्न के साथ लिखा जाता है । जैसे, ( .pdf, .zip, .rar etc )

2• Disk Fragmentation (डिस्क फ्रेग्मेन्तेशन )
इस Disk Fragmentation Software का बड़ा ही important role है । यह भी एक यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर है । होता क्या है कि जब कोई File डिस्क पर store किया जाता है  तो Computer उसे सबसे पहले प्राप्त होने वाले स्थान पर store कर देता है । इससे disk विभिन्न टुकड़ों में विभाजित हो जाता है और इससे इसके पढ़ने की गति धीमी हो जाती है । इस खराबी को दूर करने हेतु Disk Defragmentation प्रोग्राम चलाते हैं जो सभी files को arrange करता है और इससे डिस्क की गति तेज होती है ।

3• Antivirus Utility ( एनटीवायरस यूटिलिटी )
Virus को निष्क्रिय करने हेतु जो Software programe किये जाते हैं, उन्हें हम Antivirus Utility कहते हैं ।

4• Disk Formatting (डिस्क फॉर्मेटिंग)
आजकल स्मार्ट फ़ोन और टैबलेट के दौर में पें ड्राइव, मैमोरी कार्ड आदि से तो हम सभी वाकिफ हैं । हो सकता है कभी आपने इसे Format भी किया हो। Disk Formatting का सम्बन्ध भी इसी बात से है । कई बार ऐसा होता है की किसी Virus, malware आदि की वजह से अथवा ढेर सारे अनावश्यक files बन जाने की वजह से अथवा किसी अन्य वजह से हमें इसका Format करना पड़ता है । यहां ध्यान रखें कि Formatting के दौरान पहले वाले data को डिलीट नही किया जाता । इससे डिस्क फिर से और बेहतर कार्य करने लगता है ।

Backup Program (बेकअप प्रोग्राम)
कंप्यूटर के Memory Disk अगर किसी कारणवश खराब हो जाएं तो ऐसे में डाटा के नष्ट होने का डर बना रहता है। बस इसी के लिए किसी अलग Memory Disk का प्रयोग कर उस पर डाटा संग्रहण किया जाता है । यही है Backup Utility Program ।

इसकेअलावे  Utility software के उदाहरण हैं डिस्क Clean Up व डाटा Compression Utility आदि ।
आइये, अब tutorial के अन्त में हम कुछ Operating System के कुछ examples देख लेते हैं ।  
एमएस विंडोज़
XP
Windows 7
Windows 10
Linux
Unix
एमएस DOS
मैक OS 

तो आज हमने Software Kya Hai, Software Ke Prakar, System Software, Application Software aur Utility Software Kya Hai - आदि चीज़ों को हिंदी में जानने का प्रयास किया। आप निम्नलिखित जानकारी भी पढ़ सकते हैं :- 
डोमेन नाम सिस्टम क्या है और यह कैसे कार्य करता है ?
कंप्यूटर से सम्बंधित सामान्य ज्ञान जीके
जीमेल अकाउंट कैसे बनाएं - Gmail sign up
बिट, बाइट, निबल, केबी, एमबी, जीबी आदि क्या होता है ?

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.