ऑप्टिकल डिस्क की जानकारी। Optical Disk in Hindi

What is Optical Disk or Laser Disk in Hindi
ऑप्टिकल या प्रकाशीय डिस्क अथवा लेज़र डिस्क क्या होता है ?

ऑप्टिकल डिस्क या लेज़र डिस्क - ऑप्टिकल डिस्क पॉली कार्बोनेट प्लास्टिक से बना एक गोलाकार आकृति वाला डिस्क होता है जिसकी सतह को प्रकाश के परावर्तन हेतु  एल्युमीनियम की पतली परत चढ़ाकर चमकीला बना दिया जाता है। ऑप्टिकल डिस्क पर डाटा को लिखने  पढ़ने के लिए लेज़र बीम का प्रयोग किया जाता है, अतः इसे लेज़र डिस्क भी कहते हैं।   


Optical Disk की जानकारी




ऑप्टिकल डिस्क में ट्रैक एक केन्द्रित वृत्त में नहीं होता। यह बाहर से अंदर की ओर Spiral आकार में होता है, जो समान आकार वाले sectors में विभाजित होता है। यही कारण है कि ऑप्टिकल डिस्क का एक्सेस टाइम मैग्नेटिक डिस्क से अधिक होता है और इसे डाटा को पढ़ने में अपेक्षाकृत अधिक समय लगता है। 

यद्यपि ऑप्टिकल डिस्क डाटा को पढ़ने में अधिक समय लेता है, लेकिन यह डाटा की बड़ी मात्रा को क्रम से लिखने में और पढ़ने में उपयुक्त होता है। इसलिए इसका प्रयोग Audio, Video, Multimedia Application तथा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को स्टोर करने में होता है।

Read More :-


Pits and Lands क्या होता है ? ऑप्टिकल डिस्क में डाटा को कैसे स्टोर किया जाता है ?

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा कि ऑप्टिकल डिस्क में data को लिखने-पढ़ने के लिए लेज़र बीम का प्रयोग किया जाता है। इस Laser Beem के प्रयोग से Disk की सतह पर बहुत ही सूक्ष्म गड्ढे बन जाते हैं। इसे ही हम पिट्स [ Pits ] कहते हैं। गड्ढों के बीच जो क्षेत्र होता है उसे हम समतल यानि लैंड्स [ Lands ] कहते हैं। 

पिट्स और लैंड्स के द्वारा क्या निरूपित होता है ?

पिट्स और लैंड्स  - इन दोनों के द्वारा ही बाइनरी डिजिट को निरूपित किया जाता है। पिट्स के द्वारा जहाँ 0 या Off को निरूपित किया जाता है, वहीँ लैंड्स 1 या On को निरूपित करता है।  

ऑप्टिकल डिस्क में स्टोर किये गए डाटा को कैसे पढ़ा जाता है ?
ऑप्टिकल डिस्क को एक ड्राइव में रखकर लिखा या पढ़ा जाता है जिसे ऑप्टिकल डिस्क ड्राइव कहते हैं। इस डिस्क ड्राइव में डिस्क रखने के लिए एक डिस्क ट्रे की आवश्यकता पड़ती है। डाटा को पढ़ने के लिए सेमीकंडक्टर लेज़र बीम, फोटो डायोड तथा लेंस का प्रयोग किया जाता है। अब डिस्क को मोटर की सहायता से अपनी धुरी पर घुमाया जाता है। इस प्रक्रिया में डिस्क का Read Write Head डिस्क के साथ टच नहीं करता। इससे इसके घिसने की सम्भावना काम रहती है।


Optical Disk या Laser Disk के प्रयोग के लाभ :-

ऑप्टिकल डिस्क अथवा लेज़र डिस्क के प्रयोग करने के निम्नलिखित लाभ हैं :-
  • इसके प्रयोग से डाटा को लम्बे समय तक स्टोर कर रखा जा सकता है। 
  • इसमें डाटा के मिटने की सम्भावना नहीं होती। 
  • चूँकि डाटा डिस्क में स्टोर होता है, अतः यह portable होता है। 
  • इसके प्रयोग करने से कम लागत में अधिक स्टोरेज क्षमता प्राप्त किया जा सकता है।  
ऑप्टिकल डिस्क के प्रयोग करने से निम्नलिखित समस्या भी उत्पन्न होती है :-

  • डिस्क में डाटा स्टोर किये जाने के बाद उसमे संशोधन या परिवर्तन नहीं किया जा सकता। 
  • ऐसे डिस्क मिटटी, धूल या ऊँगली की छाप पड़ने से ख़राब भी हो सकते हैं। 
तो हमने जाना कि ऑप्टिकल डिस्क या लेज़र डिस्क क्या होता है, इसके प्रयोग करने के क्या लाभ व् क्या समस्याएँ हैं।


Read More :-


ऑप्टिकल डिस्क के उदाहरण :-ऑप्टिकल डिस्क के उदाहरण हैं :-
CD - COMPACT DISK
DVD - DIGITAL  VIDEO DISK
ब्लू-रे-डिस्क [ BLUE-RAY-DISK ] 

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.